Home » » Dhanteras Shubh Muhurat 2017 Puja shopping Timing Dhantrayodashi Best time on 17th Oct 2017

Dhanteras Shubh Muhurat 2017 Puja shopping Timing Dhantrayodashi Best time on 17th Oct 2017

Dhanteras 2017 Shubh Muhurat best Time Tithi 2017 dhanlaxmi Date, Time, Muhurat & Auspicious,Subh Time Tithi for shopping purchasing, mahurat timings for Dhantrayodashi 17th Oct 2017, download dhanteras puja muhurtham timing pdf

Dhanteras Shubh Muhurat, Pujan Vidhi, Mantra and Mythology

On the auspicious day of Dhanteras, Lord Dhanvantari, the discoverer of medicine, emerged. Begin the festive moods of Diwali. This pious day comes 2 days before Diwali and is meant to purchase new utensils or gold or silver coins. This is the festival of wealth, fortune & prosperity. this is the best day for pleasing Goddess Lakshmi. As per beliefs, the Goddess visits your house on the auspicious day of Dhanteras.

Dhantrayodashi which is also known as Dhanteras is the first day of five days long Diwali festivities. On the day of Dhantrayodashi, Goddess Lakshmi came out of the ocean during the churning of the Milky Sea. Hence, Goddess Lakshmi, along with Lord Kubera who is the God of wealth, is worshipped on the auspicious day of Trayodashi. However, Lakshmi Puja on Amavasya after two days of Dhantrayodashi is considered more significant.

Lakshmi Puja on Dhanteras or Dhantrayodashi should be done during Pradosh Kaal which starts after sunset and approximately lasts for 2 hours and 24 minutes. 

Dhanteras is on  17th October 2017 and the Muhurat or Good time to perform puja are:



Date: Oct 17th 2017, Friday
 Here are the muhurat timings for the auspicious day of Dhanteras:
Dhanteras 2017 धनतेरस इस बार शुक्र और चंद्रमा के संयोग से खास है। शुक्र हालांकि अपनी नीच राशि में है, परन्तु शुक्र और चंद्रमा का योग ही समृद्धि के लिए शुभ है। शुक्र को धन, ऐश्वर्य और वैभव का ग्रह माना गया है। चंद्रमा तो शुभ में वृद्धि और तेज गति का कारक है। शुक्र लक्ष्मी जी का भी प्रतीक है। दोनों ग्रहों के शुभ संयोग से इस बार धनतेरस पर लक्ष्मीवर्षा होगी। धनतेरस पर जो भी निवेश करेंगे या खर्च करेंगे, लक्ष्मी जी का स्थायी वास होगा।
कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस होती है। समुद्र मंथन का प्रसिद्ध प्रसंग इसी से जुड़ा है। भगवान धन्वंतरी एक हाथ में अमृत कलश और एक हाथ में आयुर्वेद का ग्रंथ लेकर प्रकट हुए थे। संदेश यही है कि स्वस्थ तन ही अमृत है। इस रात यम दीपक भी जलाया जाता है, जो घर-परिवार की मंगलकामना के लिए होता है।
– लक्ष्मी जी का प्रथम वास धातु में माना गया है।
– धातु (बर्तन, सोना-चांदी) खरीदना इसलिए शुभ है।
– इस दिन खरीद पर लक्ष्मी का स्थायी वास होता है
– इस दिन किया गया निवेश भविष्य में लाभकारी होता है
– धनतेरस पर भगवान धन्वंतरी (आयुर्वेद के देव) प्रकट हुए थे।
– समुद्र मंथन में निकले 14 रत्नों में एक रत्न धन्वंतरी का भी है।
– स्वास्थ्य, संतान, समृद्धि का ही प्रतीक पर्व धनतेरस है।
गाड़ी, इलेक्ट्रिक गुड्स
दोपहर 12:40 बजे से 2:25 बजे तकशाम 5:25 बजे से 7:03 बजे तक
प्रॉपर्टी और आभूषण
दोपहर 2:25 बजे से 3:56 बजे तकशाम 7:03 बजे से रात 9 बजे तक
Dhanteras 2017:इस समय खरीदें गाड़ी,जानिए कब ज्वैलरी खरीदना रहेगा शुभ
शुभ मुहूर्त:
प्रात: 9:18 बजे से दोपहर 1:28 रात्रि के समय
– 7:16 से 8:53 के मध्यधनतेरस पूजन
-सायं 07:19 बजे से 08:17 बजे तकप्रदोष काल
-सायं 05:45 से रात्रि 08:17 बजे तकवृषभ काल
-सायं 07:19 बजे से रात्रि 09:14 तकत्रयोदशी तिथि प्रारंभ
-मध्यरात्रि 00:26 से, 17 अक्तूबर 2017त्रयोदशी तिथि समाप्त
-सायं 00:08 बजे, 18 अक्तूबर 2017( विभोर इंदुसुत, पंडित उमेश शास्त्री, पंडित हरिदत्त शा के आधार पर)

Dhanteras Puja Muharat timing in Estern Time Zone EST,PST,CST,MST,GMT


Note - 24-hour clock with local time of Tokyo & DST adjusted for all Muhurat timings (if applicable)

Dhanteras Puja Muharat timing in Estern Time Zone EST,PST,CST,MST,GMT

0 comments:

Post a Comment